Saturday, January 9, 2010

ऐसे पुत्र को पैदा कर के माता धन्य हो जाती है




सम्पत्ति
मिलने पर


जो हर्ष में आपे से बाहर नहीं हो जाता,


विपत्ति आने पर


जो विकल हो कर रोने नहीं लगता


तथा युद्ध पड़ने पर


जो कायर नहीं हो जाता,


त्रिलोक में शिरोमणि


ऐसे


पुत्र को पैदा कर के


माता धन्य हो जाती है



- विष्णु शर्मा


4 comments:

जी.के. अवधिया said...

बहुत ही सुन्दर उक्ति!

Bhagyoday said...

lokatantra me kya sambhaw hai
bhagyodayorganic.spotblog.com

Rekhaa Prahalad said...

Aaj ke daur me aisi maatao aur aise putro ki kami hai:(

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बिल्कुल सही है!