Wednesday, May 5, 2010

सत्य की बलि नहीं दी जा सकती




सत्य के लिए


सब कुछ त्यागा जा सकता है


लेकिन सत्य को


किसी भी चीज के लिए


नहीं छोड़ा जा सकता ।


सत्य की बलि


नहीं दी जा सकती



- स्वामी विवेकानन्द


8 comments:

Shekhar Kumawat said...

bilkul sahi kaha @@@@@@@@@@

दिलीप said...

satya vachan...

कुमार राधारमण said...

अब इन सिद्धांतों पर चलने वालों को "सीधा" मानकर दया के भाव से देखा जाता है। बदलते समय ने हमसे बहुत कुछ छीन लिया है। अन्यथा,सत्य ही सहजतम है। इसके लिए किसी प्रयास की आवश्यकता ही नहीं।

डॉ टी एस दराल said...

सत्य वचन । सत्य पर अडिग रहना कठिन काम भी है ।

राजीव तनेजा said...

सत्य वचन

राजीव तनेजा said...

सत्य वचन प्रभु

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

उपयोगी सीख!

सूर्यकान्त गुप्ता said...

सत्य कभी बलि चढ़ भी नही सकता सिवाय आपात स्थिति के। ठीक "अश्व्त्थामा" मारा गया की तरह्।