Monday, July 19, 2010

ऐसा आदमी ही चिड़िया की तरह ऊपर आकाश में उड़ जाता है





जो मनुष्य मशहूर नहीं है, वह सुखी है

बढ़िया कुरता और कम्बल नहीं पहनता तो अच्छा करता है

ऐसा आदमी ही चिड़िया की तरह ऊपर आकाश में उड़ जाता है

और इस संसार के उजाड़ खण्ड का उल्लू नहीं बनता


-शब्सतरी



1 comment:

रवि कान्त शर्मा said...

शुक्रिया! प्रत्येक मनुष्य की भौतिक इच्छाऎं ही उसको उल्लू बनाती हैं।