Monday, November 23, 2009

कड़ी मेहनत करके आदमी इतना नहीं थकता.........




सुबह से शाम तक


कड़ी मेहनत करके


आदमी इतना नहीं थकता,


जितना


क्रोध या चिन्ता से


एक घंटे में थक जाता है



-जेम्स एलन



7 comments:

जी.के. अवधिया said...

शिक्षाप्रद विचारों की एक और सुन्दर कड़ी!

"चिता मनुष्य को एक बार में जलाती है किन्तु चिन्ता उसे तिल-तिल करके जलाती है।"

दिगम्बर नासवा said...

बहुत सही कहा है ......

Rajey Sha said...

चिंता के अलावा कमेंट के इंतजार में भी बहुत थकान होती है, नहीं?

Rekhaa Prahalad said...

aap chun-chun ke isi tarah gyan ke moti bikherte rahiye batornewaale kayi hai line me:)

Nirmla Kapila said...

बिलकुल सही बात शुभकामनायें

Babli said...

एकदम सही बात है ! चिंता और परेशानी से ही इंसान बहुत ज़्यादा थक जाता है !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सत्य वचन!