Wednesday, December 9, 2009

परिस्थिति चुन नहीं सकते, बना तो सकते हैं...




मनुष्य


अपनी परिस्थितियों को


प्रत्यक्षतः


नहीं चुन सकता


लेकिन


वह


अपने विचारों को चुन सकता है


और इस तरह


परोक्ष रूप से


किन्तु लाज़िमी तौर पर,


अपनी


परिस्थितियों का


निर्माण कर सकता है



- जेम्स एलन



2 comments:

जी.के. अवधिया said...

जैसी चले बयार पीठ तैसी कर लीजे ...

Kusum Thakur said...

बहुत अच्छा विचार .....