Saturday, December 26, 2009

भेद स्त्री व पुरूष के प्यार का .........


पुरूष

हमेशा

स्त्री का प्रथम प्यार

बनना चाहता है,

जबकि

स्त्री

हमेशा

पुरूष का अन्तिम प्यार

बनना

पसन्द करती है

-आस्कर वाइल्ड


enjoy laughter ke phatke

new year special

performing by

albela khatri & abhijit sawant

on STAR ONE 31 DEC.10 P.M.

6 comments:

जी.के. अवधिया said...

सुन्दर विचारों की श्रृंखला की एक और कड़ी!

निर्मला कपिला said...

मुझे तो इसके बिलकुल विपरीत लगता है। मैं इस से सहमत नहीं ।धन्यवाद

vedvyathit said...

mn ka kya hai jane kb ye
ubd khbd gddon me ja kr gir jaye
ya prvt choti pr se fisl pair us ka kb jaye
kya antim hai or pthm kya
kon kh ska hai dunya men
soch 2 kr nbh ke tare
hath kisi ke kb aaye hain
un ko choone ki aasha men
jivn shj bit jata hai
dr.vedvyathit@gmail.com

vedvyathit said...

mn ka kya hai jane kb ye
ubd khbd gddon me ja kr gir jaye
ya prvt choti pr se fisl pair us ka kb jaye
kya antim hai or pthm kya
kon kh ska hai dunya men
soch 2 kr nbh ke tare
hath kisi ke kb aaye hain
un ko choone ki aasha men
jivn shj bit jata hai
dr.vedvyathit@gmail.com

परमजीत बाली said...

हमे नही पता...अलबेला जी।

मथुरा कलौनी said...

बहुत बढि़या।

आस्‍‍कर वाइल्‍ड ने यक भी क‍हा है कि

प्‍यार का रहस्‍य, मृत्‍यु के रहस्‍य से गहरा होता है।